Sri Sri Ravi Shankar has founded courses that provide techniques and tools to live a deeper, more joyous life. He has established nonprofit organizations that recognize a common human identity above the boundaries of race, nationality and religion. His goal is to uplift people around the globe, to reduce stress, and to develop leaders so that human values can flourish in people and communities.


डॉक्टरों और मेडिकल प्रोफेशनलों के लिए ऑनलाइन मेडिटेशन एण्‍ड ब्रेथ वर्कशॉप | Online Meditation and Breath Workshop for Doctors and Medical Professionals

सेवा और सामाजिक कार्यक्रम


डॉक्टरों और मेडिकल प्रोफेशनलों के लिए ऑनलाइन मेडिटेशन एण्‍ड ब्रेथ वर्कशॉप | Online Meditation and Breath Workshop for Doctors and Medical Professionals

यह पृष्ठ इन भाषाओं में उपलब्ध है: English मराठी

राष्ट्रीय कोविड-19 प्रतिक्रिया टीम के एक भाग के रूप में, हमारे डॉक्टर, पैरामेडिक्स, नर्स एवं मेडिकल प्रोफेशनल, ढेर सारे सुरक्षात्मक गियर पहन कर लगातार चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं। हमारे ये प्रोफेशनल अनेक बार अपनी जान जोखिम में डालते हुए लगातार घंटों तक रोगियों का इलाज करते हैं और उन्‍हें जिस भी चिकित्‍सीय सहायता की आवश्‍यकता होती है, पहुँचाते हैं। इतनी बड़ी संख्‍या में रोगियों को हैंडल करने से होने वाले इस भयानक तनाव को कम करने एवं मेडिकल प्रोफेशनलों को, चाहे कुछ ही मिनटों के लिए ही सही अपने भीतर की शांति के सागर को ढूँढ निकालने हेतु आर्ट ऑफ लिविंग ने एक अन्‍य कोविड सेवा के रूप में दिनांक 13 से 16 मई 2020 के मध्‍य आर्ट ऑफ लिविंग प्रणेता व विश्‍व आध्‍यात्मिक गुरु, गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जी के आशिर्वाद एवं मार्गदर्शन से डॉक्‍टरों एवं मेडिकल प्रोफेशनलों के लिए ऑनलाइन मेडिटेशन एण्‍ड ब्रेथ वर्कशॉप की शुरुआत की।

वर्कशॉप (कार्यशाला) में श्‍वास एवं आध्यात्मिक ज्ञान का प्रयोग करते हुए कुछ ऐसे व्‍यवहारिक एवं शक्तिदायक टूल्‍स सिखाए गए जो डॉक्‍टरों को उनके कार्य के दौरान विशेषकर इस वैश्विक महामारी के दौरान हो सकने वाली चिंता, तनाव, नींद की कमी, कुछ मामलों में अन्‍य प्रकार के कष्‍टों से उबरने में मददगार होगा। इस वर्कशॉप का उद्देश्य उनके चेहरों पर मुस्कान बनाए रखना और गहन विश्रांति के साथ-साथ शांत एवं स्‍पष्‍ट मन, प्रसन्‍न चित्‍त एवं भावनाओं का व्‍यावहारिक अनुभव करने में मदद करना है ताकि इससे उन्‍हें और भी बेहतर ढंग से सेवा करने, स्‍वस्‍थ रहने, मानसिक रूप से फिट रहने तथा और भी अधिक उत्पादक होने के लिए ऊर्जा मिल सके।

यह कार्यशाला देश भर में मेडिकोज के लिए आयोजित की जाने वाली समान प्रकृति की अन्‍य कार्यशालाओं की श्रृंखला में पहली कायशाला है।

श्रीमती नीरू सिंह, आईएएस ने कहा कि “हम ईएसआईसी चिकित्‍सालय एवं कॉलेज, हैदराबाद के डीन डॉ. श्रीनिवास को धन्‍यवाद देना चाहेंगे जिनमें परिपाटी से हट कर सोचने की दृष्टि है, जिससे यह काय्रशाला आयोजित हो सकी। हमारी इस पहली कार्यशाला में 65 डॉक्टरों ने भाग लिया। हमारा संस्थान प्रतिभागियों पर कार्यशाला के दौरान सिखाए जाने वाले अभ्‍यासों के प्रभाव पर शोध करने की योजना बना रहा है। ”

कार्यशाला का उद्घाटन गुरुदेव श्री श्री रविशंकर की पुण्‍य उपस्थिति में, माननीय गृह राज्य मंत्री श्री जी किशन रेड्डी जी के द्वारा किया जाएगा।

श्रीमती सिंह ने आगे कहा कि, “चूंकि 13 मई गुरुदेव का जन्मदिवस है, और हमें इस शुभ दिन से ज्‍यादा कोई अन्‍य दिन, इस महत्वपूर्ण कार्य को आरंभ करने का नहीं सूझा।”

श्रीमती नीरू सिंह और डॉ. जयमणि, जो स्वयं एक मेडिकल प्रोफेशनल हैं, ने कार्यशाला का संचालन किया। यह कार्यशाला लगातार 4 दिनों तक 2 घंटे के सत्र में आयोजित होगी। इसके बाद प्रतिभागियों के साथ नियमित साप्ताहिक फॉलोअप का आयोजन भी किया जाएगा।