सामाजिक प्रभाव के लिए भू-स्थानिक विश्व पुरस्कार (जीओस्पेटियल वर्ल्ड अवॉर्ड फॉर सोसाइटील इम्पैक्ट) | Geospatial World Award for Societal Impact

व्यक्ति को सशक्त बनाकर समाज में एक स्थायी बदलाव लाने हेतु गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जी के प्रयासों की मान्यता देते हुए, भू-स्थानिक विश्व मंच (जीओस्पेटियल वर्ल्ड फोरम) द्वारा ” जीओस्पेटियल वर्ल्ड अवॉर्ड फॉर सोसाइटील इम्पैक्ट” से उन्हें सम्मानित किया गया।

छात्रों के मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए येल और BIDMC (बीआईडीएमसी) स्वतंत्र रूप से सुदर्शन क्रिया योग (SKY) का समर्थन करते हैं | Yale & BIDMC independently endorse Sudarshan Kriya Yoga (SKY) for boosting mental health of students

हाल ही में, शोधकर्ताओं ने येल विश्वविद्यालय और बेथ इज़राइल डेकोनेस मेडिकल सेंटर (BIDMC) में स्वतंत्र रूप से शोध निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें तनाव प्रबंधन उपकरण के रूप में श्री श्री रविशंकर के सुदर्शन क्रिया योग (SKY) तकनीक की प्रभावकारिता का उल्‍लेख किया गया है।

नि:शुल्क राशन योजना का अभिनंदन | Welcoming the free ration scheme

भारत के प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में भारत में 800 मिलियन (80 करोड़) लोगों के लिए मुफ्त राशन योजना को नवंबर तक बढ़ाने की घोषणा की। सरकार ने कोविड-19 महामारी के कारण उत्‍पन्‍न चुनौतियों के समाधान के रूप में अप्रैल 2020 में दिहाड़ी मजदूरों के लिए यह योजना आरंभ की थी।

डॉक्टरों और मेडिकल प्रोफेशनलों के लिए ऑनलाइन मेडिटेशन एण्‍ड ब्रेथ वर्कशॉप | Online Meditation and Breath Workshop for Doctors and Medical Professionals

आर्ट ऑफ लिविंग प्रणेता व विश्‍व आध्‍यात्मिक गुरु, गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जी के आशिर्वाद एवं मार्गदर्शन से डॉक्‍टरों एवं मेडिकल प्रोफेशनलों के लिए ऑनलाइन मेडिटेशन एण्‍ड ब्रेथ वर्कशॉप की शुरुआत की।

कोरोना वायरस लॉकडाउन से प्रभावित दिहाड़ी मजदूरों का साथ देने के लिए एक पहल | #iStandwithHumanity – An initiative to support the daily-wage earners affected by the Coronavirus lockdown

आर्ट ऑफ लिविंग के स्वयंसेवकों ने भारत के कई शहरों में कोरोना वायरस लॉकडाउन से प्रभावित दिहाड़ी मजदूरों को खाद्य सामग्री वितरित की। आय ए एच व्ही (IAHV) और आर्ट ऑफ लिविंग फ़ाउंडेशन द्वारा संयुक्त रूप से मिल कर आरंभ #iStandWithHumanity नामक इस पहल की फ़िल्म और टेलीविज़न क्षेत्र में कार्यरत लोगों ने भी पूरे दिल से समर्थन किया है।